रविवार, 25 अप्रैल 2010

वैज्ञानिक अध्यात्म: ब्रह्मवर्चस शोध संस्थ���न

05जून1979ई0 को मेँ लगभग छ: वर्ष का था.बीसलपुर (पीलीभीत)स्थित बाला जी की मढ़ी,जहाँ सरस्वती शिशु मन्दिर विद्यालय भी स्थित था.जहाँ हमारे पड़ोस मेँ रहने वाला एक हमउम्र बालक सन्तोष गंगवार कक्षा दो पास होकर तीन मेँ आया था.मैँ उसके साथ वहाँ जाने लगा था.गायत्री परिवार एवं आर्य समाज के लोगोँ के सम्पर्क मेँ भी आ चुका था.इसी दौरान.....?!

शान्ति कुञ्ज द्वारा वैज्ञानिक अध्यात्म की अध्ययन अनुसंधान यात्रा की शुरुआत 05जून1979ई0 को ब्रह्मवर्चस शोध संस्थान की स्थापना के साथ हुई.उस वक्त पं. श्री राम शर्मा आचार्य ने कहा था

" आज हम सब ब्रह्मवर्चस शोध संस्थान के रूप मेँ जिस वैज्ञानिक अध्यात्म की अनुसंधानशाला की स्थापना कर रहे हैँ,वह कल इक्कीसवीँ सदी के उज्जवल भविष्य का वैचारिक, दार्शनिक एवं वैज्ञानिक आधार बनेगी..... ...भविष्य मेँ इसी का विकास महान विश्वविद्यालय के रुप मेँ होगा." श्री राम शर्मा आचार्य का स्वपन साकार हुआ.देव संस्कृति विश्वविद्यालय की स्थापना हुई.जहाँ अब 'वैज्ञानिक अध्यात्म विभाग' की स्थापना भी हो चुकी है.


काफी वर्ष पहले रुस मेँ एक ऐसा कैमरा विकसित हुआ जो व्यक्ति के आभा मण्डल की तश्वीर खीँचता है.जिसके माध्यम से हम विविध जानकारियाँ प्राप्त कर सकते हैँ-व्यक्ति का सूक्ष्म शरीर किस स्तर का है,उसे भविष्य मेँ कौन से रोग हो सकते हैँ.आभा मण्डल के माध्यम से अनेक निष्कर्षोँ तक पहुँचा जा सकता है.आप सब को ज्ञात होना चाहिए कि रंग सुगन्ध ध्वनि प्रकाश तरंग आदि का सूक्ष्म जगत मेँ काफी महत्व है जो स्थूल शरीर व जगत को भी प्रभावित करता है.इसी सिद्धान्त के तहत अब कलर थेरेपी ,साउण्ड थेरेपी, सुगन्ध थेरेपी, आदि का विकास सम्भव हो सका है.तरंग ,प्रकाश व रंग को प्रभावित करने वाली भौगोलिक घटनाओँ ,ग्रहोँ, आदि की स्थितियोँ ने ज्योतिष विज्ञान, रत्न विज्ञान ,आदि को जन्म दिया.शरीर जिन पंच तत्वोँ से बना है,उन पाँच तत्वोँ का भी अपना अपना रंग होता है.

अमेरीका स्थित एक संस्था सूक्ष्म शरीर पर शोध कर रही है जिसे भूत कहा जा सकता है.एक पुस्तक' लाइफ आफ द लाइफ'मेँ ऐसे व्यक्तियोँ के अनुभवोँ को संकलित किया गया है जो चिकित्सकोँ की दृष्टि मेँ मर चुके थे लेकिन फिर जिन्दा हो गये. विज्ञानवेत्ता स्टुअर्ट हाल रायड ने अपनी पुस्तक 'मिस्ट्रीज आफ इनरसेल्फ'मेँ कहा है कि ओ .ब .ई( शरीर से बाहर अनुभव)की अधिकतर घटनाएँ दूरी का अतिक्रमण करके स्थान के सम्बन्ध मेँ पायी गयी हैँ,लेकिन कुछ घटनाएँ ऐसी भी पाई गई हैँ जिसमेँ समय का भी अतिक्रमण हो सकता है.दुनियां के तमाम पन्थ आत्मा और सूक्ष्म शरीर(भूत)के अस्तित्व को प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से स्वीकार करते हैँ.खैर.....


अन्ध विश्वासोँ से निकल कर अपने पन्थ -जाति, आदि के रीतिरिवाजोँ -विचारों को वैज्ञानिक कसौटी पर खरा उतारने के बाद जो शेष बचता है वही वैज्ञानिक अध्यात्म है. वैज्ञानिक अध्यात्म के जगत मेँ
ब्रह्मवर्चस शोध संस्थान का योगदान सराहनीय रहेगा जिसने वैज्ञानिक अध्यात्म युग का श्रीगणेश किया है.हाँ अब कुछ गाय पर भी कुछ कह दूँ.


जब व्यक्ति के मन मेँ विकार आते हैँ व्यक्ति सिर्फ भोगवादी भौतिकवाद मेँ जीता है-प्रकृति का विदोहन बढ़ जाता है.
धर्म व मोक्ष से हट अर्थ व काम महत्वपूर्ण हो जाता है.प्रकृति असन्तुलन बढ़ जाता है.मनुष्य की प्रतिरोधक क्षमता कम होने लगती है.कहते हैँ कि गाय के सीँगोँ पर पृथ्वी टिकी है....क्या कहा गाय के सींगोँ पर..?!हाँ!जरा इसे विज्ञान की कसौटी पय कसिए तो....

हजरत मोहम्मद साहब ने कहा है कि गाय का दूध गिजा है घी दबा और गोस्त बीमारी है.महात्मा गाँधी ने कहा है कि गाय की रक्षा करना ईश्वर की सारी मूक सृष्टि की रक्षा करना है.

गाय का सम्मान(सीँग)जब थक जाते है अर्थात कमजोर पड़ जाते हैँ तब धरती हिलती है.समृद्ध भारत का इतिहास गाय के सम्मान व सेवा के जिक्र के बिना अपूर्ण है. अनेक वैज्ञानिक सिद्ध कर चुके हैँ कि कृत्रिम वर्षा कराने मेँ सहायक प्रोपलीन आक्साइड गैस हमेँ गाय के घी को हवन से प्राप्त होती है.गाय के दूध मेँ STRONTIONतत्व पाया जाता है जो अणु विकरण का प्रतिरोधक है.कोलेस्ट्राल की मात्रा बढ़ जाने पर भी गाय के दूध से बना घी नुकसानदायक नहीँ होता है. गाय के मूत्र मेँ विटामिन बी तथा कार्बोलिक एसिड होता है जो रोगाणुओँ का नाश करता है.

वैज्ञानिक कहते
है कि अगला युद्ध पानी के लिए लड़ा जाएगा मै कहता हूँ कि इसके बाद का युद्ध गाय के लिए लड़ा जाएगा.मनुष्योँ मेँ प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने तथा भावी पीड़ी के स्वास्थ्य के लिए हर घर मेँ गाय का पालन आवश्यक है.प्रति व्यक्ति पाँच वृक्षोँ अर्थात पंचवटी का निर्माण आवश्यक है.

कोई टिप्पणी नहीं: