शुक्रवार, 31 दिसंबर 2010

काँग्रेस के 125 वर्ष:आज��दी के बाद चरित्र

सन 1885 ई0 काँग्रेस की स्थापना किस उद्देश्य से की गयी थी?स्थापना का उद्देश्य क्या दर्शन व क्या नियति रखता था ?क्या इसके कारण मेँ सन 1857 ई0 की क्रान्ति जैसी भावी क्रान्ति को पैदा करना न था.



देश के आजादी के बाद गांधी जी कांग्रेस को भंग कर देना चाहते थे लेकिन कांग्रेस के प्राण तो कहीँ ओर जगह टिके थे.किसी ने क्या यह ठीक नहीँ कहा कि सौ साल बाद लोग कांग्रेस को गाली देँगे.

कोई टिप्पणी नहीं: