मंगलवार, 25 जून 2013

आपदाओँ से कैसे निपटेंगे जब....?!

खतरनाक कौशल प्रशिक्षण से नाता छोँड़ दिया ,

दुर्गमताओँ मेँ रहने का साहस हमने छोंड़ दिया .




कौन गया दक्षिणी ध्रुव कौन गया उत्तरी ध्रुव ?

हमसे अच्छे जापानी ,सुनामी का सीना चीर दिया .

हमारा तन कुदरत ,हमने कुदरत से नाता तोड़ दिया

निर्जीवताओँ की चादर ओढ़ी ,कुदरत का संग छोँड़ दिया .

पुलिस खड़ी क्योँ बौनी बन ? सेना ने थामा दामन

आपदाओँ बीच गीदड़ोँ ने यान से सफर सुहाना बना लिया .


शेरोँ को राहत हेतु रोके ,खुद राहत का ड्रामा किया

जातिवाद मजहब के वास्ते ऐसे नेताओ को वोट दिया .

अमेरीकी फौजोँ को गीता का संदेश ,यहाँ सेक्यूलरोँ ने हिजड़ा बना दिया

पोप के लिए न गीता के श्लोक साम्प्रदायिक,यहाँ गाँधी की टोपी ने रुला दिया .
लादेन को मारा जिस टीम ने,उस टीम सा है प्रशिक्षण कहाँ ?
हनुमान जैसा भक्त कहाँ ?हनुमान जैसा होना छोँड़ दिया .
दुर्गमताओँ मेँ रहने का साहस हमने छोँड़ दिया
खतरनाक कौशल प्रशिक्षण........

कोई टिप्पणी नहीं: