मंगलवार, 23 अगस्त 2011

भौतिक संलिप्तता का दंश : भ्रष्टाचार

भ्रष्टाचार एक पाप है लेकिन आदिकाल से कब यह धरती भ्रष्टाचार से मुक्त हुई है.माया,मोह,लोभ,द्वेष,आदि जब तक है तब तक भ्रष्टाचार रहेगा.भौतिक लालसाएं भ्रष्टचार की जननी हैँ.अपने से अधिक संसाधन रखने वालों से तुलना हम जब करते हैँ लेकिन संसाधन इकट्ठे करने के साधन हमारे पास नहीं होते,तब हम गैरकानून काम अपना कर संसाधन जुटाते हैँ,ऐसे में भ्रष्टाचार स्वाभाविक है.
एक कहावत है कि पैर उतने ही फैलाने चाहिए जितनी बड़ी चादर है लेकिन आज भौतिक युग मेँ भौतिकसंसाधनों की चकाचौंध मेँ आदमी खो गया है.जब व्यक्ति की क्षमताएं उन्हेँ प्राप्त करने मेँ अक्षम हो जाती है तो लालसाएं भ्रष्टाचार को जन्म देती हैं.लोग जैसे तैसे संसाधन पा लेना चाहते हैं.जीवन रुपी गाड़ी जब अध्यात्म व भौतिक रुपी दोनों पहियों पर बराबर बोझ लेकर चलेगी तभी भ्रष्टाचार मुक्त समाज की कल्पना की जा सकती है.नहीं तो कोरे निरे भौतिक भोगवाद मेँ भ्रष्टाचार फलता फूलता रहेगा.जब तक सांसारिक जगत व वस्तुओं से लगाव रहेगा,भ्रष्टाचार किसी न किसी रुप मेँ रहेगा.लोग अपने को धार्मिक व ईश भक्त मानते हैँ लेकिन धार्मिक व ईशभक्त हैँ नहीँ.अध्यात्मिकता तो दूर की बात.

----------
मेरें Nokia फ़ोन से भेजा गया

कोई टिप्पणी नहीं: