गुरुवार, 31 मार्च 2011

आबादी का स्तर बनाम पर��वार व उत्तराधिकार का��ून!

भारत की पन्द्रहवीं जनगणना के प्रारंभिक आंकड़ों के अनुसार भारत की आबादी एक अरब इक्कीस करोड़ है जिसमें 62करोड़ पुरुष58करोड़ महिलाएं हैं.इन ताजे आकड़ों के अनुसार देश के पैमाने पर लिंगानुपात में कुछ सुधार होने के बावजूद छह राज्यों में बाललिंगानुपात में पिछली जनगणना के मुकाबले सुधार देखा गया,जबकि केन्द्र शासित प्रदेशों सहित शेष सत्ताईस राज्यों में इसमें गिरावट दर्ज की गई है.



*बेटियों की संख्या में यह गिरावट*



उफ् !नारी शक्ति मातू शक्ति, कन्याओं का पूजन! भारतीय संस्कृति स्त्री को बराबर का दर्जा नहीं ,पुरुष से भी बड़ा दर्जा देता है.नारी को मातृ शक्ति व कन्याओं को देवि शक्ति का दर्जा दिया जाता है.यह सब शास्त्रो व प्रवचन तक ही ठीक है.



अरे,काम बने अपना भाड़ में जाए जनता!औरत जाति काहे के लिए है?घर में रह कर खामोशी से पुरुष की जूती तले रह.हमें उसके हड्डी मास के शरीर से मतलब है,उसके भाव मनस आत्म शरीर से नहीं.सन्तान के नाम पर तो लड़के ही ठीक! देख रहे हो जमाना,लार टपकाते कुत्ते की तरह सूंघता फिरता है कि कहां हैं लड़कियां ? सामंती स्टाइल ही ठीक है.लड़कियां पैदा करने से कितनी समस्यायें आ खड़ी होती हैं?रुपया हो सम्पत्ति हो,औलादों के शादी के लिए लड़कियां मिल जाएंगी ही.नीचे तबके वाले जाने?और फिर नीचे तबके वालों के लड़कों के सामने का समस्या ?महानगरीय स्टैण्डर्ड कल्चर में आत्मनिर्भर व रुपया फेँकू बापों की लड़कियां अब स्वयं लम्बे तगड़े चिकने लड़कों को रखती हैं और न जाने क्या क्या करवाती हैं ? ऊपर से अपना रुपया भी खर्च करती हैं.बात है शादी की,जाति बिरादरी राज्य देश की शरहदों की न माने तो का कमी लड़कियों की?इतनी बड़ी आबादी ,लेकिन नब्वे प्रतिशत आबादी का स्तर व नजरिया क्या है?ऊर्ध्वार्धर में नहीं क्षैतिज दिशा है,सभी के ऊर्जा की. ऊपर से अतृप्त मन ,अशान्ति ,असन्तुष्ट व अविश्वास.उसको बहला फुसला कर जाति - समाज के ठेकेदार सिर्फ अपना उल्लू सीधा किया जा सकता है लेकिन कानून ,मानवता, सुप्रबन्धन,आदि के लिए दशा दिशा नहीं दी जा सकती?आबादी का स्तर सुधारने के लिए परिवार व उत्तराधिकार कानूनों पर पुनर्विचार कर परिवर्तन आवश्यक है.उत्तराधिकार व वंशवाद के कारण लिंगानुपात प्रभावित है .परिवार बसाने की अनिवार्य सोच के कारण आबादी का स्तर उच्च नहीं हो पाता.जो अपने शरीर व स्वास्थ्य के भले की नहीं सोंच पाते व अपना स्तर नहीं सुधार पाते,वे अपने बच्चों का स्तर क्या सुदारेंगे?आज सत्तर प्रतिशत बच्चे कुपोषण के शिकार हैं तो क्या इसके लिए माता पिता दोषी नहीं हैं?आज भी काफी तादाद में बच्चे स्कूल नहीं जा पा रहें तो इसके लिए माता पिता दोषी नहीं हैं?ऐसे में क्या सभी दम्पत्तियों को सन्तान उत्पन्न करने का अधिकार मिलना चाहिए ?मेरा विचार है -नहीं.



ASHOK KUMAR VERMA'BINDU'


1 टिप्पणी:

सुशील बाकलीवाल ने कहा…

शुभागमन...!
कामना है कि आप ब्लागलेखन के इस क्षेत्र में अधिकतम उंचाईयां हासिल कर सकें । अपने इस प्रयास में सफलता के लिये आप हिन्दी के दूसरे ब्लाग्स भी देखें और अच्छा लगने पर उन्हें फालो भी करें । आप जितने अधिक ब्लाग्स को फालो करेंगे आपके ब्लाग्स पर भी फालोअर्स की संख्या उसी अनुपात में बढ सकेगी । प्राथमिक तौर पर मैं आपको 'नजरिया' ब्लाग की लिंक नीचे दे रहा हूँ, किसी भी नये हिन्दीभाषी ब्लागर्स के लिये इस ब्लाग पर आपको जितनी अधिक व प्रमाणिक जानकारी इसके अब तक के लेखों में एक ही स्थान पर मिल सकती है उतनी अन्यत्र शायद कहीं नहीं । प्रमाण के लिये आप नीचे की लिंक पर मौजूद इस ब्लाग के दि. 18-2-2011 को प्रकाशित आलेख "नये ब्लाग लेखकों के लिये उपयोगी सुझाव" का माउस क्लिक द्वारा चटका लगाकर अवलोकन अवश्य करें, इसपर अपनी टिप्पणीरुपी राय भी दें और आगे भी स्वयं के ब्लाग के लिये उपयोगी अन्य जानकारियों के लिये इसे फालो भी करें । आपको निश्चय ही अच्छे परिणाम मिलेंगे । पुनः शुभकामनाओं सहित...

नये ब्लाग लेखकों के लिये उपयोगी सुझाव.


ये पत्नियां !