मंगलवार, 4 मार्च 2014

उठो जागो :मुटठी भर लोगोँ ने ही दुनिया बदली है.

ये मत सोँचोँ हमारे साथ कितने हैँ?हर पल ये धारणा रखो परमात्मा व सभी
शक्तियां हमारे साथ हैँ.हम अपने कर्तव्य से भटक नहीँ सकते.



मुटठी भर लोगोँ ने दुनियां को बदला है.कायरोँ की भीड़ के बीच मुटठी भर
ही काफी हैँ. हर शहर गांव हर जाति मजहब देश मेँ मुटठियां तन चुकी
है.बस,ऐसे नायकोँ की जरुरत है जो हर जाति मजहब देश के कामन मुद्दो को
लेकर आगे चल सके.

मोदी के समर्थक होँ या राहुल या ममता या केजरीवाल या मुलायम के
समर्थक,हिन्दू हो या मूस्लिम या अन्य परम ज्ञान किसी के आचारण मेँ दिखायी
नहीँ देता.


परम ज्ञान के आधार पर हमसब व जगत के दो अंश हैँ-प्रकृतिअंश व
ब्रह्मांश. जो किसी जाति मजहब व धर्मस्थल के मोहताज नहीँ.खुदा व कुदरत की
नजर से जगत को देखो..


आओ उखाड़ फेँकेँ जाति मजहब व धर्मस्थल.

OMG

--
संस्थापक <
manavatahitaysevasamiti,u.p.>

कोई टिप्पणी नहीं: