बुधवार, 3 सितंबर 2014

अबकी प्रलय का क���रण मानव

इस धरती पर मानव को देखकर मुझे हंसी आती है . निन्यानवे प्रतिशत मानव पशुओं से भी ज्यादा गिरे हैं . जाति . मजहब आदि की राजनीति मेँ मानवता सम्मानीय नहीं हो पा रही ?

कोई टिप्पणी नहीं: